पेशाब बन्द होना

(dysuria)कारण :-

★ मूत्र-नाश रोग बुखार व हैजा के कारण उत्पन्न होता है।
★ यह रोग सुजाक में एकाएक पीब आना बंद हो जाने पर और मूत्रग्रन्थि में जलन या मूत्रस्थली में लकवा मार जाने या किसी तरह के चोट लगने के कारण भी उत्पन्न होता है।

उपचार :

1. केले के तने का रस चार चमच, घी दो चमच | दोनों को आपस में अच्छी तरह मिला कर पेशाब बन्द वाले रोगी को पिलाने से पेशाब आने लगता है|

2. अजवायन: ठंडी प्रकृति वाले रोगी को आधा चम्मच पिसी हुई अजवायन को शहद के साथ और गर्म प्रकृति वाले को आधा चम्मच पिसी हुई अजवायन सिरके के साथ देने से बंद पेशाब( pesab ) आने लग जाता है।

3. राई: 1-1 ग्राम राई और कलमीशोरा को पीसकर इसमें 2 ग्राम खांड को मिलाकर हर 2-2 घंटे के बाद 2-2 ग्राम की मात्रा में पीने से बंद पेशाब खुल जाता है।

4. पीपल: 5-5 ग्राम पीपल, कालीमिर्च, छोटी इलायची और सेंधानमक को पीसकर और छानकर इसमे से आधा चम्मच चूर्ण को शहद में मिलाकर रोगी को देने से पेशाब बंद होने का रोग दूर हो जाता है।

पीला पेशाब का इलाज:

1. शहतूतः शहतूत के शरबत में थोड़ी शक्कर घोलिए और पी जाइए। इससे पेशाब का पीलापन दूर हो जाएगा।

2. संतराः पेशाब में जलन होने पर नियमित एक गिलास संतरे का रस पीएं।

3. नीबूः नीबू की शिकंजी पीने से पेशाब का पीलापन दूर हो जाता है।

Please follow and like us:
Social media & sharing icons powered by UltimatelySocial