नींद बहुत आना और सुस्ती आना

पढ़ते समय नींद आती हो और सिर दुखता हो तो पान में एक लौंग डालकर चबा लेनी चाहिए | इससे सुस्ती और दर्द में कमी होगी | नींद अधिक नहीं सताएगी |

ज्यादा नींद आने के कारण(Over sleeping)

1. मन का एकाग्रचित्त न होना ज्यादा नींद आने के कारण- यदि हमारा मन एकाग्रचित्त नहीं होगा तो हमें कभी भी अच्छी नींद नहीं आएगी जिनका मन एकाग्र नहीं होगा या तो वह कम नींद लेंगे या बहुत अधिक नींद लेंगे .

2. दिनचर्या असंतुलित होना ज्यादा नींद आने के कारण – जिन लोगो की दिनचर्या असंतुलित होती है उन लोगो को बहुत अधिक नींद आती है.

3. एक बार में पूरी नींद न ले पाना ज्यादा नींद आने के कारण- एक बार में पूरी नींद नहीं लेना एक बहुत बढ़ा कारण है अत्यधिक नींद का. जो व्यक्ति एक बार में पूरी नींद नहीं लेते है वो बार बार सोते रहते है.

4. मधुमेह ज्यादा नींद का कारण – मधुमेह की समस्या भी अधिक नींद का एक कारण है मधुमेह के रोगियों को बहुत अधिक नींद आती है.

विकल्प:-

यदि पढ़ते समय अथवा रात को देर तक पढ़ते रहने के कारन प्रातकाल सिरदर्द की शिकायत हो तो नींबू की चाय बनाकर पिये | बिना दूध की चाय बनाकर ( चाय की पत्ती उबलने के बाद चाय के एक कप पानी में दूध न मिलाकर ) उसमे दूध डालने की बजाये एक नींबू का रस दाल दे | इस चाय को पीने से मानसिक तनाव दूर होता है और ताज़गी आती है |आप दिन भर सुस्ती के स्थान पर स्फूति का अनुभव करेगे |

सहायक उपचार:-

अतिनिंदरा बालो के लिए वज्रासन का अभयास परमोपयोगी है | यह आसान मन की चंचलता दूर करने में भी सहायक है | पढ़ने में मन न लगने वाले बच्चो को इस आसान में पढ़ना चाहिए |

Please follow and like us:
Social media & sharing icons powered by UltimatelySocial