आँख की गुहेरी का उपचार

आंख पर फुंसी(guheri) का घरेलु इलाज:

इमली के बीज की गिरी को पथर पर चंदन की तरह घिस कर गुहेरी (फुंसी) पर लेप करने से तत्काल ठंडक मिलती है और कुछ घंटों मे रोग का नामोनिशान तक नही रहता| इससे न केवल रोग बिल्कुल ठीक होता है ब्लकि भविषय मे पुन: नही होता|

(guheri)विशेष:

1 इमली के बीज को पर्योग मे लाने से पहले टीन दिन पानी मे भिगो कर छिलका उतार कर रख लेना चाहिए

2 बिछू के काटने पर छिलका उतारे एक बीज का सफेद भाग पानी मे घिस कर दंश स्थान पर लगा दें| लगाते ही वो चिपक जाएगा अवर जहर चूस्कर ही उतरेगा|

सहायक उपचार:

जिस स्थान पर गुरांजनी उठ रही हो, वहाँ सूरज के सामने खाली हथेली पर सीधे (दाएँ) हाथ की तीसरी उंगली से इतना घिसें की उसमे गर्मी आ जाए| उंगली गरम होने पर फिर उस उंगली से बार बार फुंसी पर सेक करे| ऐसा करने से गुहेरी डोर हो जाती है|

बार-बार गुहेरी निकलना बंद करने के लिए –

देर सुबह तीन गराम त्रिफला चूर्ण गाय के दूध से लें| इससे बार बार गुहेरी निकलना बंद हो जाएगा| साप्ताह-दो साप्ताह लें| अपने गुप्ताँग की सदैव ठीक से सफाई रखें|

Please follow and like us:
Social media & sharing icons powered by UltimatelySocial